Home / MUTUAL FUND / Difference between Growth and Dividend reinvestment mutual fund in hindi

Difference between Growth and Dividend reinvestment mutual fund in hindi

जब हम म्यूचुअल फण्ड ख़रीदते है तो उस समय, हमारे पास कई विकल्प आते है ,उन्ही में से एक महत्वपूर्ण विकल्प है कि हम म्यूच्यूअल फण्ड Growth option में खरीदे या Dividend option पर । अक्सर हम निवेश करते समय सही जानकारी के अभाव में भ्रमित हो जाते हैं ,आज के इस अंक में हम Growth और Divident ऑप्शन के बारे में जानेंगे ।हम आज जानेंगे कि दोनों ऑप्शन का क्या महत्व है। तथा दोनों के क्या फायदे और नुकसान हैं ,ताकि निवेश के समय हमें किसी भी प्रकार का कोई भी भ्रम न हो ।

कई विशेषज्ञों का कहना है कि “सही म्यूचुअल फंड का चुनाव जीतना महत्वपूर्ण है उतना ही महत्वपूर्ण है म्यूच्यूअल फण्ड के सही विकल्प (ऑप्शन ) का चुनाव करना ।”आपने एक ही म्यूचुअल फंड को दो अलग-अलग विकल्पों के साथ देखा होगा; Growth and Dividend और लाभांश (आमतौर पर वे (G) या (D) के रूप में प्रत्यय होते है ।

Growth और Dividend म्यूच्यूअल फण्ड के बीच क्या अंतर होता है ।

आपने गौर किया होगा कि म्यूच्यूअल फण्ड के किसी स्कीम में इन दोनों के NAV अलग अलग होते हैं और Growth option के NAV dividend options से अधिक होता है। क्या इसका मतलब है कि वे दो अलग अलग scheme हैं? जवाब नहीं है। स्कीम एक ही होती है और एक ही स्टॉक या पोर्टफोलियो में निवेश करती है, उनका प्रदर्शन, निवेश रणनीति, उद्देश्य और निधि प्रबंधक जैसी बाकी चीजें वही रहती हैं,केवल अंतर होता है distribution of profit में ।

निवेश करते समय चुनने के लिए हमारे पास तीन विकल्प उपलब्ध रहते हैं, प्रत्येक के आपके निवेश लक्ष्य पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है।

1)Growth

2)Dividend

3)Dividend- reinvestment

1)Growth –

growth option का अर्थ है कि आप अपनी पूंजी पर जो profit कमाते हैं, उसको पुनः invest करते है। यह reinvest निवेशको को compounding का बड़ा लाभ देता है, जिससे हमें टर्म के अंत में एक बढ़िया रिटर्न मिलता है। Profit का यह reinvestment आपके म्यूचुअल फंड के NAV को बढ़ाता है।

Growth Option के तहत निवेशक को निवेश अवधि के बीच ना तो कोई रिटर्न दिया जाता है और न ही ब्याज, लाभ, लाभांश, बोनस इत्यादि के रूप में भी कोई भुगतान दिया जाता है ।

आइए यह समझने के लिए एक उदाहरण देखे । यदि आपने 10 रुपये के NAV में एक म्यूचुअल फंड scheme की दस Units खरीदी हैं और आपने 5 साल बाद उन Units को बेचा है, तो फंड की NAV 15 रुपये तक पहुंच गई है, तो आपके 100 रुपये के निवेश के लिए रिटर्न 150 रुपये होगा।

2)Dividend –

Dividend payout option का मतलब है कि आपके अपने म्यूचुअल फंड scheme द्वारा जितना profit कमाया है उसका एक हिस्सा फंड के NAV से हटाकर आपको दे दिया जाता है । इसका मतलब है कि, फंड के लाभ का एक हिस्सा नकद में दिया जाता है। इसलिए, आपका NAV कम होता रहता है। यही कारण है कि Growth ऑप्शन और Dividend ऑप्शन का NAV समान नहीं होता है।

इस dividend option के तहत, आपको कुछ समय अंतराल पर रिटर्न मिलते रहेंगे हालांकि न तो इसमें समय अंतराल निश्चित होता हैं, और ना ही लाभांश राशि तय की जाती है।

आइए इसे एक उदाहरण के साथ देखें, अगर आपने 10 रुपये के NAV में एक म्यूचुअल फंड में निवेश किया है और dividend ऑप्शन का चुना है। तब मान लो जब आपका NAV 14 रुपये हो जाता है तब आपके फंड ने 2 रुपये का divident के रूप में भुगतान करने का फैसला किया ,तब आपको 1.50 रुपये नकद मिलती है लेकिन साथ ही आपकी NAV गिरकर 12 रुपये हो जाएगी।

3)Dividend Re-investment –

Dividend Re-investment में भी, dividend ऑप्शन की तरह profit ले लिया जाता है । लेकिन इसमे ये अंतर होता है कि हम प्रॉफिट cash के रूप में ना लेकर मौजूदा NAV के Unitsके रूप में लेते है। इसलिए, अप्रत्यक्ष रूप से, अधिक units को जोड़कर हम फंड में निवेश करते रहेंगे।

अब हमें कौन सा विकल्प चुनना चाहिए ?

अधिकांश लोग tax efficiency के अनुसार निर्णय लेते हैं। हालांकि यह एक महत्वपूर्ण factor लेकिन और भी फैक्टर हैं जिसपर हमें बिचार करना चाहिए है, आइए हम विभिन्न फैक्टर को देखते है जो dividend and growth ऑप्शन के बीच चुनाव में अहम भूमिका निभाते हैं।

दो विकल्प कारक तय करेंगे कि आपके लिए उचित विकल्प क्या है –

1)Cash requirement

2)Tax efficiency

A)Long term-

इक्विटी म्यूचुअल फंड के लिए – इक्विटी म्यूचुअल फंड लंबी अवधि के लिए हैं। इक्विटी म्यूचुअल फंड चुनने का मुख्य कारण लंबी अवधि में बढ़िया रिटर्न प्राप्त करना और रिटर्न्स प्राप्त करते समय tax से बचना होता है। इसका मतलब यह है कि आपको अपने निवेशे में लगातार बने रहना चाहिए और नकद नहीं निकालना चाहिए ,ताकि compounding द्वारा एक बड़ी पूंजी आप बना सके।

जब आप growth option चुनते हैं,तब taxation में इसके रिटर्न को capital gains माना जाता है। इक्विटी म्यूचुअल फंड के growth option में capital gains कर योग्य नहीं है। लेकिन यदि आप 1 साल के भीतर units को बेचते हैं तो आपको शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स का भुगतान करना होगा।

B)Short Term –

Debt म्यूचुअल फंड – यदि आपके पास निकट भविष्य के लिए बहुत सी cash है और आप इससे अधिक लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो डेब्ट म्यूचुअल फंड आपके लिए सर्वोत्तम होगा ।

डेट फंड में अल्पावधि (1 साल से कम) निवेश के लिए, मैं आपको dividend option या dividend re-investment option पर जाने की सलाह दूंगा खासकर taxation के लिहाज से। हालांकि dividends निवेशको के हाथों में tax free हैं, लेकिन म्यूच्यूअल फंड को आपको भुगतान करने से पहले 12.5% के DDT (dividend distribution tax) का भुगतान करना होगा। यदि आप growth option लेते हैं, तो रिटर्न को short-term capital gains के माना जाएगा, जिसके लिए आपको अपने tax slab के अनुसार मामूली tax देना पड़ेगा । इसलिए यदि आप 30 प्रतिशत से नीचे वाले टैक्स ब्रैकेट के अंतर्गत आते हैं, तो आप Debt म्यूचुअल फंड में dividend option चुनते हैं तो आप टैक्स का भुगतान करेंगे।

C) Mid Term

mid-term (1 साल से 4 साल तक ) के लिए

Debt म्यूचुअल फंड में , आपको capital gains tax को देखते हुए growth option चुनना चाहिए ।इस मामले में, सूचकांक के बिना 10% या 20% इंडेक्सेशन के साथ, जो मामूली कर दर से कम होने की संभावना है।

सारांश:

प्रत्येक निवेशक के लिए कोई भी एक म्यूचुअल फंड आदर्श नहीं हो सकता है; यही कारण है कि कई सारे विकल्पों के साथ वहां कई फंड हैं। म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय, फंड के सभी विवरणों को जांचना सर्वोत्तम होता है, ताकि आपके लक्ष्य के अनुरूप कोई फंड न हो। यहां तीन विकल्प हैं जो मुझे लगता है कि आपको निवेश से पहले ध्यान में रखना चाहिए।

Long-term (5 – 7 वर्ष या उससे अधिक): growth ऑप्शन के साथ Equity म्यूचुअल फंड।
Short-term (1 वर्ष से कम): dividend option या dividend re-investment option के साथ Debt म्यूचुअल फंड।
Mid-term (1 साल से 4 साल तक): growth विकल्प के साथ Debt म्यूचुअल फंड।

तो दोस्तो आज का यह अंक आपको कैसा लगा ,हमें बताना ना भूलें ।

धन्यवाद

Check Also

Debt mutual fund क्या है विस्तार से जाने

दोस्तों जब भी हम कम समय के लिए पैसे निवेश करना चाहते हैं तो हमारे …

सबसे अच्छा म्यूच्यूअल फण्ड अपने लिए कैसे चुने

हम जब भी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश की सोचते है ,तो हमारे सामने सबसे बड़ी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *