Home / BANK / Credit card kya, credit card kaise banwaye

Credit card kya, credit card kaise banwaye

Credit card kya, credit card kaise banwaye

अपने देश में क्रेडिट कार्ड को इस्तेमाल करने वालों की संख्या बहुत कम है , इसका मुख्य काऱण है , आमलोगों को क्रेडिट कार्ड के बारे में पूरी जानकारी नहीं है ।आज के इस आर्टिकल में मैं आपको क्रेडिट कार्ड के बारे में विस्तार से बताऊँगा ,जिससे आपको पता चल सके कि क्रेडिट कार्ड क्या है, क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते है क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे है ,इसे कैसे बनवाये और इसके safty के लिए क्या क्या साबधानी बरतनी चाहिए ।

 

Credit card ki puri jankari vistar se

क्रेडिट कार्ड बैंक द्वारा दी जानेवाली एक ऐसी उधार की सुविधा है ,जिसमे आप खुद के पास से नगद पैसे खर्च करने की बजाय क्रेडिट कार्ड से payment कर सकते है ।
जब हम बैंक से क्रेडिट कार्ड बनवाते हैं,तो बैंक हमे कुछ निश्चित सीमा ( limit) की amount उधार के रूप में देती है, जब हमें किसी चीज के लिए payment करना होता है, तो हम cash देने के बजाय अपने क्रेडिट कार्ड से payment कर सकते है।हम कितनी amount अपने क्रेडिट कार्ड से खर्च कर सकते है, यह कार्ड जारी करनेवाले बैंक द्वारा निर्धारित की जाती है।

क्रेडिट कार्ड के फायदे

1) क्रेडिट कार्ड साथ रखने पर आमतौर पर लगभग सभी मुख्य जगहों पर खरीदारी करते वक्त हमें cash नहीं देनी पड़ेगी। अगर हम डेबिट कार्ड से payment करते है ,तो यह amount सीधे ही हमारे account से कटती है जबकि अगर हम क्रेडिट कार्ड से payment करते है, तो यह payment amount वह बैंक देता है जिसके क्रेडिट कार्ड से हमने payment किया है। यानी की हमारी saving account के पैसे जस के तस सुरक्षित रहते है।
ऑनलाइन सामान खरीदने के अलावा आप क्रेडिट कार्ड से टेलीफोन ,मोबाइल, DTH ,बिजली जैसे सुबिधाओं का बिल भी payment कर सकते है, इसके अलावा आप क्रेडिट कार्ड से रेल/ हवाई/बस/सिनेमा का टिकट ले सकते है और कोई कीमती सामान है तो उसे EMI पर भी ले सकते हैं
2)आजकल हर जगह पर नजदीक में कहीं न कहीं आपको ATM मशीन मिल जाएगी ,अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है तो आप जरूरत पड़ने पर आसानी से उससे cash निकाल सकते है।
3)अगर आपको कभी अचानक कुछ पैसों की जरूरत आ पड़ी तो आप बहुत आसानी से क्रेडिट कार्ड पर लोन भी प्राप्त कर सकते है।
4) क्रेडिट कार्ड से लगातार खरीदारी करने पर आपको कई तरह के कूपन और आफर भी मिलते है।

क्रेडिट कार्ड की विशेषता

1)Billing cycle-

जब बैंक आपको क्रेडिट कार्ड देता है तो उसके चालू होने के दिन से ठीक एक महीने बाद तक का समय आपका बिलिंग साईकल का समय होता है।
मान लीजिये आपका कार्ड किसी महीने की 5 तारीख को चालू हुआ है तो अगले महीने की 6 तारीख को पिछले एक महीनों में आपके क्रेडिट कार्ड के जरिये किये गए खर्च का हिसाब जोड़कर इसका बिल बनाया जाएगा।इसके बाद इस बिल को आपके दिए गए पते पर डाक द्वारा भेजा जाएगा।इसके अलावा इस बिल की जानकारी आपके registered मोबाइल और email address पर भी भेजी जाएगी।बिल जारी होने की तारीख से 15 दिनों तक का समय आपको बिल का भुगतान के लिए दिया जाता है।इस समय सीमा की आखिरी तारीख तक आपको अपने बिल का भुगतान करना होता है।अगर आपने आखिरी तारीख तक भी बिल का भुगतान नही किया तो आपको जुर्माने की राशि अदा करनी पड़ेगी।आप अपना भुगतान बैंक में चेक के जरिये या इंटरनेट बैंकिंग से कर सकते है ।
5)आप क्रेडिट कार्ड के monthly bill में minimum amount को भर कर जुर्माना देने से बच सकते है।
2)add on card

बैंक क्रेडिट कार्ड वालो को add on card बनवाने की भी सुबिधा भी देती है, यानी आपके क्रेडिट कार्ड की दी गई सीमा के अंदर ही आप अपनी पत्नी या रिश्तेदार के नाम से एक और कार्ड बनवा सकते है इसका बिल आपके बिल के साथ जोड़कर आपको भेजा जाएगा ।
3)कुछ क्रेडिट कार्ड के लिए सालाना फी देना पड़ता है , जबकि कुछ क्रेडिट कार्ड फ्री रहता है ,आप अपनी सुविधानुसार इसे चुन सकते है ।
क्रेडिट /डेबिट कार्ड के साथ धोखाधड़ी एवं इसका बचाव

क्रेडिट/डेबिट कार्ड के साथ आमतौर पर 04 प्रकार की धोखाधड़ी की जाती है ,अगर आपको इनके बारे में पहले से जानकारी रहेगी ,तो आप सावधान रहेंगे और अपने आप को धोखाधड़ी से बचा के रखेंगे।

1)skimming

क्रेडिट/डेबिट कार्ड के मैग्नेटिक स्टीप में आपका 400 chareter का व्यक्तिगत डेटा फीड रहता है ।एक 04 इंच का डिवाइस ,जिसे सकीमेर कहा जाता है , को साइबर अपराधी स्वीप मशीन के साथ लगा देते हैं ।जब आप पेमेन्ट के लिए डेबिट/क्रेडिट कार्ड को स्वाइप मशीन में स्वाइप करते है तो स्कीमर आपके मैग्नेक्टिक स्ट्रिप में मौजूद व्यक्तिगत डेटा जैसे आपके 16 अंको का कार्ड नंबर ,नाम ,एक्सपायरी डेट, signature को coppy कर लेता है।बाद में साइबर अपराधी आपके इस डेटा का इस्तेमाल ऑनलाइन शॉपिंग या नकली क्रेडिट कार्ड तैयार करने में करता है।
स्किमिंग से बचने के लिए भरोसे की जगह से ही कार्ड के जरिये शॉपिंग करे , कार्ड को अपने आंखों के सामने ही स्वाइप कराये और कार्ड स्वाइप होने के बाद ट्रांजेक्शन SMS को जरूर देखें ।

2)phishing

इसमें आपको नकली email भेजकर आपका बैंक पासवर्ड बदलने को कहा जाता है, अगर आप पासवर्ड बदलते है ,तो इसे साइबर अपराधी ट्रैक कर लेते है ।दूसरा ईमेल के साथ attachment के रूप में malwers भी भेजे जाते है , जैसे ही आप इन attachment को खोलते है ,ये malware आपकी जानकारी चुराना शुरू कर देते हैं ।
फिशिंग से बचने के लिए किसी भी ईमेल या attachment को सोच समझ कर खोलें तथा ईमेल रिक्वेस्ट पर अपने एकाउंट नंबर , पासवर्ड details किसी को न बताये।

3)सोशल इंजीनियरिंग

इस तरीके में अपराधी आपको डिस्काउंट या फ्री में कोई कार्ड या प्रोडक्ट का ऑफर देकर आपके क्रेडिट कार्ड का डिटेल्स जान लेते है फिर आपके क्रेडिट कार्ड का misuse करते हैं। इसका सीधा वचाव यह हैं कि आप किसी को भी क्रेडिट या डेबिट कार्ड का details न दे ।

4)डेक्चर

इस तरीके में अपराधी आपके कार्ड स्वाइप होने पर आपके कार्ड की सारी जानकारी malware के जरिये हासिल कर लेता है और आपके कार्ड के साथ फर्जी ट्रांजक्शन करता है।इससे बचने के लिए केवल भरोसेमंद जगहों पर ही शॉपिंग करे और अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं ,तो कंप्यूटर में कोई अच्छा सा एंटीवायरस इनस्टॉल कर ले ।

रोजगार के आधार पर क्रेडिट कार्ड के लिए कैसे अप्लाई करे

1)अगर आप किसी सरकारी पद पर या किसी अच्छी कंपनी में नौकरी करते है, तो आप आप अपने सैलरी के हिसाब से क्रेडिट पाने के हकदार है ।आप अपनी सैलरी स्लीप के साथ क्रेडिट कार्ड के लिए apply करे ।
2)self business
यदि आप अपना रोजगार या व्यपार करते है तो आप अपने रोजगार और ITR( इनकम टैक्स रिटर्न्स) का ब्योरा लेकर क्रेडिट कार्ड के लिए apply करें ।
3)अन्य
यदि आप ना तो नौकरी करते है और ना ही कोई व्यापार ,तो ऐसी स्थिति में आप बैंक वालो से बात करके एक FD (फिक्स्ड डिपॉजिट) खुलवा लें , अब आपको आपके FD के आधार पर क्रेडिट कार्ड मिल जाएगा ।
क्रेडिट कार्ड के प्रकार

क्रेडिट कार्ड में दिए जानेवाले rewad और benifit के आधार पर , अपने देश मे 07 प्रकार के क्रेडिट कार्ड जारी किए जाते हैं।

1)Classic क्रेडिट कार्ड

क्लासिक क्रेडिट कार्ड आम लोगों के लिए सबसे बढ़िया कार्ड है ।अधिकतर classic क्रेडिट कार्ड में ना तो joining fee लगता है और ना ही annual fee ।इस कार्ड के मुख्य feature है
१)अंतरराष्ट्रीय स्वीकार्यता
२)Cash एडवांस
3)बिना interest के credit period
4)रिवॉर्ड प्रोग्राम
5)insurance
६)24 धंटे customer care support

2)silver क्रेडिट कार्ड

इस कार्ड को साधारण नौकरीपेशा लोग ले सकते हैं, इस कार्ड के मुख्य feature है
१) मेम्बरशिप फी कम है
२)बैलेंस ट्रांसफर करने पर 06 से 09 महीनों तक कोई interest नहीं लगता है।

3)Gold क्रेडिट कार्ड

यह क्रेडिट कार्ड high इनकम वाले लोंगो के लिए उपयुक्त है ,इसके मुख्य feature हैं
१)cash withdraw लिमिट ज्यादा है ।
२)क्रेडिट लिमिट ज्यादा है
३)इसके साथ एक add on कार्ड भी ले सकतें हैं।
४)इसके अलावा इन्सुरेंस, रिवार्ड पॉइंट और cash back आफर भी मिलता है ।

4)Titanium/ Platinum क्रेडिट कार्ड

ये दोनों कार्ड भी Gold कार्ड के समान है ,लेकिन इन दोनों कार्ड में Gold कार्ड के अतिरिक्त भी कुछ फीचर दिए गए है ,अतः ये दोनों थोड़े महंगे भी पड़ते है ।
इनका main feature है ऑनलाइन fraud से सुरक्षा तथा क्रेडिट कार्ड गुम या चोरी होने से सुरक्षा इत्यादि ।

5)Reward क्रेडिट कार्ड

इस क्रेडिट कार्ड में आपको किसी खास सामान /सर्विस पर हरेक transction पर reward या discount दिया जाता है ।जैसे अगर हम गाड़ी के लिए पेट्रोल खरीदकर उसका paymeny fuel reward क्रेडिट कार्ड से करते है ,तो हमें हरेक transction के साथ discount मिलता है ।इस प्रकार के कुछ कार्ड है
Airline reward क्रेडिट कार्ड
fuel reward क्रेडिट कार्ड
hotel reward क्रेडिट कार्ड
health reward क्रेडिट कार्ड
Cash back reward क्रेडिट कार्ड

6) Balance transfer क्रेडिट कार्ड

इस कार्ड की मदद से आप अपने क्रेडिट कार्ड में बचे पैसे को किसी दूसरे बैंक के क्रेडिट कार्ड में transfer कर सकते हैं।

7)Signature क्रेडिट कार्ड

इस कार्ड में खर्च करने की लिमिट पहले से तय नहीं होती ,मतलब आप जितनी मर्जी हो खर्च कर सकते हो ।लेकिन इस कार्ड के लिए आपकी annual income काफी ज्यादा होनी चाहिए।इसका joining fee भी काफी होता है आमतौर पर 25000 या उससे भी अधिक ।

Credit card kaise banwaye

क्रेडिटक्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए हम दो तरह से apply कर सकते है
1)offline -इस method में normally हम जिस भी बैंक से क्रेडिट कार्ड लेना चाहते है, उसके ब्रांच में जाकर application फॉर्म और जरूरी डॉक्यूमेंट जमा कर देते है ।
2)online -इस method में हम जिस भी बैंक का क्रेडिट कार्ड बनवाने चाहते है ,उस बैंक की साइट पर जाकर ऑनलाइन application भरते है, फिर जैसे ही हमारा क्रेडिट कार्ड approve हो जाता है ,फिर बैंक के नजदीकी ब्रांच में जाकर जरूरी डॉक्यूमेंट submite कर देते है ।
यहाँ मैं आपको sbi से क्रेडिट कार्ड बनाने का तरीका बता रहा हूँ ,दूसरे बैंको में भी लगभग यही तरीका अपनाते है ।
1)सबसे पहले sbi क्रेडिट कार्ड बनाने की ऑफिसियल साइट sbicard.com पर जाए।

2)अब आप अपना पसंदीदा कार्ड खोजें।आप जिस भी कार्ड के लिए apply करना चाहते है , उस कार्ड के बगल में apply now के बटन पर क्लिक करें।

4)अब आपके सामने 02 पेज का application फॉर्म खुलेगा ,इसे भरने के बाद आप i agree to term & condition पर क्लिक करें ,फिर submit application पर क्लिक करें।
अब आपके मोबाइल में आपके application का reference id आ जायेगा ,जिससे आप अपने application को आसानी से trace कर सकते हैं ।

अब आपके दिये हुए मोबाइल नंबर पर आपके application का रेफेरेंस नंबर जाएगा ,जिससे आप application को trace कर सकते है।दोस्तों उमीद करता हूँ , आपको आज का ये अंक पसंद आया होगा ,अगर आपको ये अंक पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर करना ना भूलें ।और इस अंक से समन्धित कोई सुझाव या शिकायत है ,तो comment box में लिखें ।
धन्यवाद ।।

Check Also

virtual adhar id

Aadhaar Virtual ID क्या है? और इसे कैसे Generate करें

आज हम बात करेंगे ,”आम आदमी का अधिकार “यानी कि ” आधार ” के बारे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content कॉपी ना करें
%d bloggers like this: