Home / SELF-BUSINESS / निजी सुरक्षा एजेंसियां कैसे खोले , पूरा प्रोसेस जानें

निजी सुरक्षा एजेंसियां कैसे खोले , पूरा प्रोसेस जानें

अपने देश मे नगरो का शहरीकरण  बड़ी  तेजी से हो रहा है , जितनी तेजी से नए नए शहर बन रहे है उतनी ही तेजी से उस शहर मे सोसाइटी, मॉल, मल्‍टीप्‍लेक्‍स इत्यादि बन रहे है ,और इन सभी के साथ ही इन नए बन रहे ईलाके में अपराध दरों में भारी वृद्धि भी हो रही है ,जिससे लोगों के बीच असुरक्षा की  भावना बढ़ती जा रही है और लोग अपनी असुरक्षा की  भावना को दूर करने के लिए निजी सुरक्षा एजेंसियां की शरण मे जा रहे है । यही पर नए लोगो के लिए बड़े पैमाने पर स्कोप बनता है ,जैसे जैसे शहरीकरण बढ़ेगी ,वैसे वैसे निजी सुरक्षा एजेंसी की मांग बढ़ेगी । एक अनुमान के अनुसार आज के डेट मे अपने देश मे तकरीबन 2000 से ज्यादा  रैजिस्टर्ड  निजी सुरक्षा एजेंसियां काम कर रही है ,लेकिन जैसे  की भविष्य में शहरीकरण और बुनियादी ढांचे परियोजनाओं के विकास मे  प्रति वर्ष 40% बदोतरी का अनुमान है।इससे आप अनुमान लगा सकते है ,की आने वाले समय मे कितनी ज्यादा सुरक्षा गार्ड की मांग बढ़ेगी।  इस भारी  मांग के वजह  से सुरक्षा गार्ड एजेंसी , शुरू करने के लिए उद्यमियों के बीच जबरदस्त क्रेज है । आज के आर्टिक्ल मे हम आपको निजी सुरक्षा एजेंसी खोलने के लिए पूरा प्रोसैस क्या है ,इसके लिए  कैसे लाइसेंस ले सकते है निजी सुरक्षा एजेंसी खोलने के लिए लाइसेंस फी कितना लगता है  ,  इत्यादि के बारे में विस्तार से  जानकारी देंगे।

 

निजी सुरक्षा एजेंसी खोलकर लाखों कमाए

 

निजी सुरक्षा एजेंसी कैसे खोले –

निजी सुरक्षा एजेंसी वे संगठन हैं जो किसी भी औद्योगिक उपक्रम या किसी कंपनी या किसी व्यक्ति या संपत्ति को सुरक्षा सेवाएं प्रदान करता है साथ ही सुरक्षा गार्ड के प्रशिक्षण की वयवस्था करता हैं।भारत सरकार ने 2005 “निजी सुरक्षा एजेंसियां (विनियमन) अधिनियम, बनाया है ,जिसके तहत अपने देश मे किसी भी निजी सुरक्षा एजेंसी के संचालन होता हैं।

निजी सुरक्षा एजेंसी खोलने के लिए आपको निमंलिखित 04 स्टेप को पूरा करना होगा –

स्‍टेप 1 –फर्म बनाए ।

स्‍टेप 2 – एजेंसी का रजि‍स्‍ट्रेशन करवाए ।

स्‍टेप 3 – एजेंसी के लिए लाइसेंस लें ।

स्टेप 4 – भर्ती, ट्रेनिंग,और बिजनेस शुरू ।

स्‍टेप 1 – फर्म बनाए

निजी सुरक्षा एजेंसी खोलने के लिए आपको सबसे पहले एक कंपनी बनानी होगी। आप अपनी पसंद के  अनुसार  प्राइवेट लि‍मि‍टेड कंपनी /पार्टनरशिप कंपनी या प्रॉपराइटरशि‍प फर्म ,तीनों मे से कोई भी एक खोल सकते है । अगर आप  पार्टनरशि‍प और प्रॉपराइटरशिप फर्म खोलेगे तो, एक तो यह खोलना  आसान है और दूसरा इसका सालाना कागजी कार्रवाई ,प्राइवेट कंपनी के मुकाबले बहुत कम होती है। आप अपने कि‍सी दोस्त को साथ लेकर  या फिर अपने रिश्तेदार  या अपनी पत्‍नी के साथ मिलकर पार्टनरशिप कंपनी भी खोल सकते हैं। आपके लिए  बढ़िया रहेगा की आप इस काम के लिए  कि‍सी सीए की मदद ले लें ।

 

स्‍टेप 2 – एजेंसी का रजि‍स्‍ट्रेशन करवाए

(A ) ESI & PF Registration

आपको अपनी कंपनी को ईएसआई (ESI )और पीएफ (PF ) अथॉरिटी के साथ रैजिस्टर्ड करवाना होगा ।अगर आपकी एजेंसी  10 से अधिक लोगों को रोजगार दे रही है तो आपको  ESI अथॉरिटी के साथ रजिस्ट्री  करवाना होगा है अगर आपकी एजेंसी  20 से अधिक लोगों को रोजगार दे रही है तो आपको  PF अथॉरिटी के साथ रजिस्ट्री करवाना होगा है इसके अलावा आपको लेबर कोर्ट में भी रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा ।

 

( B) Tax Registration

सि‍क्‍योरि‍टी एजेंसी सर्वि‍स देती है इसलि‍ए आपकी कंपनी सर्वि‍स टैक्‍स के दायरे में आएगी और आपको उसका रजि‍स्‍ट्रेशन कराने की जरूरत है।सुरक्षा गार्ड सेवा द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं, सेवा कर अधिनियम (Service Tax Act )के तहत करयोग्य ( taxable) हैं और इसलिए, 0 9  लाख रुपये से अधिक के वार्षिक कारोबार करने वाली सुरक्षा गार्ड सेवाओं को सेवाकर पंजीकरण (Service Tax registration )  करवाना होगा।

स्‍टेप 3 – एजेंसी के लिए लाइसेंस लें

 

The Private Security Agencies (Regulation) Act, 2005

भारत मे निजी सुरक्षा एजेंसी  के संचालन निजी सुरक्षा एजेंसियां (विनियमन) अधिनियम(The Private Security Agencies Act, 2005 ) के द्रारा होता है ।यह अधिनियम अपने देश मे जम्मू कश्मीर को छोड़कर सभी राज्यो मे लागू है । इस अधिनियम के अनुसार हरेक  राज्य के लिए एक नियंत्रण प्राधिकरण (Controlling Authority ) का गठन होगा , जो निजी सुरक्षा एजेंसी  को लाइसेंस देने , लाइसेंस का नवीनीकरण करने  और निजी सुरक्षा एजेंसियों के संचालन के लिए ज़िम्मेदार होगा  । राज्य सरकार नियंत्रण प्राधिकरण  मे राज्य के गृह विभाग के संयुक्त सचिव  पद  या इसके  समकक्ष  अधिकारी  नियुक्ति करेगा । इसके अलावा यह अधिनियम राज्य सरकार को यह भी अधिकार देती है ,की राज्य सरकार इस अधिनियम के प्रावधानों को और अच्छे ढंग से लागू करने के लिए और भी  जरूरी नियम बना सके ।

इस अधिनियम के अनुसार, कोई भी व्यक्ति ,निजी सुरक्षा एजेंसी शुरू नहीं करेगा, जब तक की उसे  निजी सुरक्षा एजेंसी शुरू करने का लाइसेंस प्राप्त नहीं प्राप्त हो जाता है, इसलिए, सुरक्षा एजेंसी व्यवसाय शुरू करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति को भारत में लाइसेंस प्राप्त कर लेनी चाहिए

Eligibility for Private Security Agency License

नीचे सुरक्षा गार्ड एजेंसी शुरू करने के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के लिए बुनियादी योग्यता दिये गए हैं और यदि आप नीचे दी गए  सभी बिंदुओं का पालन करते हैं तो आप निश्चित होकर लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते है

  1. केवल एक भारतीय कंपनी/ व्यक्ति ही  सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस के लिए पात्र हैं। अगर एजेंसी एक कंपनी है, तो अधिकांश शेयरधारकों को भारतीय होना चाहिए
  2. सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस के लिए आवेदक  कंपनी या व्यक्ति को किसी अदालत ने  दोषी नहीं ठहराया  हो ।
  3. अगर व्यक्ति को अदालत द्वारा दोषी ठहराया जाता है और उसे 02 साल से अधिक की सजा दी जाती है तो वह वायक्ति  लाइसेंस प्राप्त करने के योग्य नहीं होगा।
  4. व्यक्ति या कंपनी का संबंध किसी ऐसे व्यक्ति या संगठन से नहीं होना चाहिए , जो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करती  हो या किसी  भी कानून के तहत  प्रतिबंधित हो ।
  5. व्यक्ति को किसी भी प्रकार की दुर्व्यवहार के आधार पर ,केनरा या राज्य सरकार द्वारा किसी भी सरकारी सेवा से समाप्त या खारिज नहीं किया गया होना  चाहिए।

Fee for Private Security Agency License

सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस तीन श्रेणियों के तहत प्रदान किया जाता है पहला 01 जिला में सुरक्षा एजेंसी को संचालित करने के लिए लाइसेंस, दूसरा 02-05 जिले में सुरक्षा एजेंसी संचालित करने के लिए लाइसेंस और तीसरा  पूरे राज्य में सुरक्षा एजेंसी संचालित करने के लिए लाइसेंस।

सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस प्राप्त करने के लिए सरकारी फीस नीचे दी गई  है ,हालाँकि  अलग अलग राज्यो मे इसमे भिनता हो सकती है

  1. एक जिले में निजी सुरक्षा एजेंसी परिचालन के लिए चार्ज 5,000 / – है
  2. Districts पांच जिलों में निजी सुरक्षा एजेंसी परिचालन के लिए शुल्क 10,000 / – है
  3. पूरे राज्य में निजी सुरक्षा एजेंसी परिचालन के लिए शुल्क 25,000 / – है

Getting License

नियंत्रण प्राधिकरण को सुरक्षा एजेंसी के लिए लाइसेंस के आवेदन को , आवेदन प्राप्ति तारीख के 60 दिनों  के अंदर आवदन को लाइसेंस  देने या नहीं देने के बारे मे अपना निर्णय देना परता है । एक बार किसी व्यक्ति को निजी  सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस के लिए लाइसेंस मिल जाता है तो यह लाइसेंस  अगले पांच साल के लिए मान्य होता है ,  फिर 05 साल पूरा होने पर व्यक्ति  चाहे तो निर्धारित शुल्क के भुगतान करके अगले 05 साल के लिए लाइसेंस  को नवीनीकृत कर सकता है ।

स्टेप 4 – भर्ती, ट्रेनिंग,और बिजनेस शुरू

 

आपको सुरक्षा एजेंसी के लिए लाइसेंस  प्राप्ति के बाद सुरक्षाकर्मी की भर्ती और उनकी ट्रेनिंग की वयवस्था करनी पड़ती  है आपको किसी मान्‍यताप्राप्‍त ट्रेनिंग इंस्‍टीट्यूट से उनकी ट्रेनिंग का इंतजाम भी करना होगा। ट्रेनिंग करीब एक माह की होती है

सुरक्षा एजेंसी लाइसेंस प्राप्त करने पर, कंपनी या वायक्ति को लाइसेंस प्राप्त करने के छह महीने के भीतर अपनी एजन्सि शुरू करनी पार्टी है। इसके लिए आपको पर्याप्त संख्या मे सुरक्षाकर्मी की भर्ती करनी होगी ,साथ ही  उनकी ट्रेनिंग की भी वयवस्था करनी होगी । आप सुरक्षाकर्मी की ट्रेनिंग के लिए किसी मान्‍यताप्राप्‍त ट्रेनिंग इंस्‍टीट्यूट से मदद से सकते है ।आमतौर पर एक समान्य सुरक्षाकर्मी  की ट्रेनिंग करीब एक माह की होती है

सुरक्षा एजेंसीको  सुरक्षाकर्मी  के साथ साथ ही पर्याप्त संखाया मे पर्याप्त संख्या में पर्यवेक्षकों (supervisors ) की भी भर्ती करनी होगी ।

सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों बनने के पात्रता –

  1. सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों की नागरिकता ,भारतीय होना चाहिए या फिर उन्हे  किसी ऐसे देश का नागरिक होना चाहिए ,जिसे भारत सरकार ने अपने सरकारी राजपत्र में अधिसूचित कर रखा हो ।
  2. . सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों  के लिए आवेदक की आयु 18-65 के बीच मे होनी चाहिए ।
  3. सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा किया होना चाहिए ।
  4. सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों  को फ़िज़िकल फिट होना चाहिए ।
  5. सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों  किसी ऐसे व्यक्ति को नहीं बनाया जा सकता जिसे किसी अदालत ने  दोषी करार दिया हो ।
  6. सुरक्षा गार्ड या सुरक्षा गार्ड पर्यवेक्षकों  किसी ऐसे व्यक्ति को नहीं बनाया जा सकता जिन्हें किसी भी सशस्त्र बलों या किसी भी निजी सुरक्षा में सेवा करते समय दुर्व्यवहार या नैतिक अशांति के आधार पर हटा दिया गया हो ।
  7. निजी सुरक्षा गार्ड का चयन करते समय, सभी निजी सुरक्षा एजेंसियों को उन व्यक्तियों के लिए वरीयताएं प्रदान करना परता है जिन्होंने निम्नलिखित बलों में से एक में सदस्य के रूप में कार्य किया-                 सेना, नौसेना, वायु सेना,संघ की किसी भी अन्य सशस्त्र बलों ,राज्यों के सशस्त्र constabularies सहित पुलिस ,गृह गार्ड

पूरी तरह   से सुरक्षा एजेंसी  खोल लेने के बाद आपको ऐसे लोगों से संपर्क करना होगा, जिनको अपनी कंपनी, सोसाइटी, मॉल, अस्पताल इत्यादि  में सिक्‍योरिटी गार्ड की जरूरत होती है।अगर आप चाहे तो  शुरूवात  में आप किसी बड़ी एजेंसी के साथ मिलकर भी काम को शुरू  कर सकते हैं।

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपको आज का यह अंक पसंद आया होगा ,फिर भी कोई सुझाव या शिकायत  कमेंट करें।

धन्यवाद

अपना सुझाव या शिकायत यहाँ दें

error: Content कॉपी ना करें
%d bloggers like this: