Home / BANK / प्रॉपर्टी लोन (Loan against Property) क्या होता है विस्तार में जानें

प्रॉपर्टी लोन (Loan against Property) क्या होता है विस्तार में जानें

प्रॉपर्टी लोन क्या होता है

बैंक द्वारा आपकी प्रॉपर्टी अर्थात घर, प्लाट या खेत को गिरवी रख कर दिये जाने वाले लोन  ,प्रॉपर्टी लोन     ( Loan against property or LAP) कहते हैं। चूंकि इस लोन में संपत्ति को मॉर्गेज  (mortgage ) अर्थात् बंधक रखकर लोन दिया जाता है, इसलिए इसे   मॉर्गेज लोन  ( mortgage loan)  भी कहते है । संपत्ति  बंधक रखने के  मतलब है कि,आपके  संपत्ति के कागज़ात और उसका कानूनी स्वामित्व, तब तक बैंक के पास रहता है जब तक कि आप बैंक का   लोन चुका नहीं देते ।

प्रॉपर्टी लोन एक secured लोन है,   इसका मतलब है कि अगर आपने लोन का भुगतान नहीं किया तो बैंक आपकी प्रॉपर्टी बेच कर अपना लोन वसूल लेंगी ।

 

प्रॉपर्टी लोन (Loan against Property) के बारे में पूरी जानकारी

Loan against property और  personal loan में क्या अंतर है?

 

 

1)प्रॉपर्टी लोन हम अपनी प्रॉपर्टी को  गिरवी रखकर लेते है ,अतः स्वाभाविक रूप से पेपर वर्क (paper work) कंपलीट होने में थोड़ा समय  लगता है ।इस वजह से  प्रॉपर्टी पर लोन लेने में थोड़ा समय लगता  है।

पर्सनल लोन में कागजी कार्यवाही तुरंत हो जाता है अतः यह शीघ्र  मिल जाता है|

 

2)LAP एक सुरक्षित लोन (secured loan) है

पर्सनल लोन एक असुरक्षित लोन (unsecured loan) है

3)प्रॉपर्टी पर आपको 5-10 करोड़ रुपये तक का लोन मिल सकता हैं|

पर्सनल लोन आपको 5-10 लाख से ज्यादा का नहीं मिलेगा|

4)एक प्रॉपर्टी लोन की अवधि लंबी ,यहाँ तक कि 15 वर्ष तक हो सकती है|

पर्सनल लोन की अवधि छोटी ,आमतौर पर  3-5 वर्ष से ज्यादा की नहीं होगी|

 

Features of Loan Against Property

.

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी या मॉर्गेज लोन की कुछ ख़ास विशेषताएं होती हैं जो अन्य प्रकार के लोन से इसे अलग होती हैं

 

  1. इसे एक सुरक्षित (secured) लोन माना जाता है क्योंकि यह  एक अचल परिसंपत्ति को गिरवी रखकर प्रदान किया जाता है ।
  2. इसमे आप अपनी संपत्ति का 70% या अधिकतम  10 करोड़ रुपये तक का लोन प्राप्त कर सकते हैं।
  3. लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी या मॉर्गेज लोन मे आप  low EMIs और लंबी अवधि अथवा ओवरड्राफ्ट सुविधा ,दोनों मे से किसी एक  का चयन कर सकते हैं
  4. अगर आप चाहे तो अपने लोन का Prepayment भी कर सकते है लेकिन आपको इसके लिए charges देना होगा और दूसरे बात  आप      Prepayment केवल ऋण लेने के छह महीने के बाद ही कर सकते  है।
  5. Processing Fee  10 लाख रुपये तक के लिए 2500 रुपये का Processing Fee  और 10 लाख रुपये से अधिक के लिए 5000 रुपये आपको Processing Fee  के रूप मे आपको देनी होगी
  6. Overdraft Facility का लाभ उठा सकते हैं जो आपको ऋण राशि को अनुमोदित सीमा तक उपयोग करने की अनुमति देता है और केवल    आपके द्वारा उपयोग की गई राशि के लिए ब्याज का भुगतान करता है।
  7. लोन के लिए संपत्ति आपके या आपके सह-आवेदक के नाम पर होनी चाहिए
  8. चूँकि यह एक सुरक्षित (secured) लोन है अतः इसकी ब्याज दरें काफी कम होती हैं ।
  9. बैंक, एक लम्बी भुगतान अवधि की सुविधा प्रदान करते हैं, जो 15 साल तक हो सकती है.
  10. प्रॉपर्टी लोन के भुगतान पर आपको कोई टैक्स बेनिफिट नहीं मिलता| न तो आपको ब्याज के भुगतान (interest payment) पर कोई टैक्स बेनिफिट मिलता है और न ही मूल के भुगतान (principal repayment) पर कोई टैक्स बेनिफिट मिलता है|

 

 

 

संपत्ति के बदले लोन लेने के फायदे

आप अपना स्वामित्व हस्तांतरित किए बिना लोन लेने के लिए अपनी संपत्ति का इस्तेमाल कर सकते हैं ।

ब्याज दरें, पर्सनल लोन की तुलना में काफी कम होती हैं ।चूंकि आप संपत्ति गिरवी रखकर लोन ले रहे है अतः   आपको पर्सनल लोन की तुलना में एक बहुत बड़ा लोन मिल सकता है ।

संपत्ति के बदले लोन लेने के उद्देश्य

प्रॉपर्टी लोन में आप  लोन राशि का किसी भी उद्देश्य के लिए उपयोग कर सकते हैं।जैसे कि

  • शिक्षा ,
  • चिकित्सा उपचार ,
  • शादी ,
  • व्यापार की आवश्यकताओं ,
  • किसी दूसरे लोन का भुगतान ,
  • या कोई भी अन्य उद्देश्य

 

 

 

संपत्ति के बदले लोन लेने के उद्देश्य योग्यता

हालाँकि लोन के लिए मुख्य मानदंड, आवेदक के नाम से संपत्ति का होना है, लेकिन अधिकांश बैंक कुछ अन्य योग्यता आवश्यकताओं को भी पूरा करने के लिए कहते हैं जो निम्नलिखित हैं:

  • आपको एक रोजगार प्राप्त व्यक्ति होना चाहिए
  • न्यूनतम आयु सीमा 23 से 25 साल होना चाहिए
  • लोन चुकाने की अधिकतम उम्र 65 से 70 साल तक सीमित है ।
  • आपकी योग्यता का निर्धारण करने के लिए आपकी वित्तीय स्थिति, क्रेडिट स्कोर और आमदनी की भी जांच

की जाती है

 

प्रॉपर्टी पर लोन की राशि एवं ब्याज

  1. लोन की राशि प्रॉपर्टी के मूल्य (market value) पर निर्भर करती है ,
  2. लोन देने से पहले बैंक आपकी प्रॉपर्टी के मूल्य का आंकलन करता है|
  3. आपको अपनी प्रॉपर्टी के मूल्य के 50-70% तक की राशि का लोन मिल सकता है|
  4. साथ ही बैंक इस बात पर भी ध्यान देते हैं की आप कितने लोन का भुगतान कर सकते हैं(repayment ability)
  1. प्रॉपर्टी लोन पर ब्याज दर स्थिर नहीं रहती| लोन लेते समय ही आपको ब्याज दर चेक करनी होगी| साथ ही यह लोन एक फ्लोटिंग रेट लोन (floating rate loan) है| आपकी लोन अवधि के दौरान भू लोन की ब्याज दर बदल सकती है|
  2. आप विभिन्न बैंक से बात करके सबसे कम ब्याज दर वाला लोन ले सकते हैं|
  3. SBI प्रॉपर्टी लोन (SBI loan against property) की ब्याज दर जानने के लिए आपइस लिंक पर जा सकते हैं|

 

प्रॉपर्टी पर लोन लेने के लिए दस्तावेज़

आपको बैंक या NBFC जाकर आवेदन करना होगा|हालांकि बैंकों और एनबीएफसी में दस्तावेजों की सूची मे थोरै बहुत भिनता हो सकती है, फिर भी यहा मैं कुछ प्रमुख दस्तावेजों का नाम दे देता हूँ

  1. अपनी प्रॉपर्टी के कागज़
  2. पहचान प्रमाण पत्र
  3. निवास प्रमाण पत्र
  4. अगर आप सैलरी पाते हैं नौकरी , वेतन स्लिप, फॉर्म -16 सैलरी अकाउंट के 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट
  5. यदि आपका बिजनेस है तो आयकर रिटर्न, सर्टिफाइड फाइनेंसियल स्टेटमेंट , अकाउंट के 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट

 

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) से प्रॉपर्टी लोन लेने के बारे में जानकारी

उद्देश्य : आप अपने किसी भी व्यक्तिगत उद्देश्य  की पूरा करने के लिए अपने  आवासीय या वाणिज्यिक संपत्ति को गिरवी रखकर  लोन ले सकते है

मासिक आय: कम से कम 25,000 रुपये

न्यूमतम लोन राशि: 10 लाख रुपये

अधिकतम लोन राशि: 7.5 करोड़ रुपये (प्रॉपर्टी के मूल्य की 65% प्रतिशत राशि का लोन ले सकते हैं)

ब्याज दर: नवीनतम ब्याज दर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें|

लोन समाप्ति के समय आपकी आयु 70 वर्ष से ज्यादा नहीं हो सकती| तो अगर आपकी आयु 60 वर्ष है, तो लोन की अवधि 10 वर्ष से अधिक नहीं हो सकती|

अधिक जानकारी के लिए आप अपनी निकटतम शाखा मे जा सकते हैं या आप यहा क्लिक करके भी  जानकारी  पा सकते हैं

 

दोस्तों उम्मीद करता हूँ ,मेरे इस आर्टिकल से आपको Loan Against Property  के बारे में जानकारी  मिल  गई होगी  ,फिर भी कोई शिकायत या सुझाव हो तो कमेंट करें ।
धन्यवाद ।

 

 

Check Also

zero balance account kya hai

Zero Balance Savings Account क्या होता है और कैसे खोले

जब से बैंकों ने एकाउंट में न्‍यूनतम राशि रखने की अनिवार्यता शुरू की है ,तब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content कॉपी ना करें
%d bloggers like this: